Breaking News

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपराध नियंत्रण एवं कानून शिथिलता के साथ ही भ्रष्टाचार जैसे गंभीर मामलों

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपराध नियंत्रण एवं कानून शिथिलता के साथ ही भ्रष्टाचार जैसे गंभीर मामलों के गंभीर आरोप लगाते हुए प्रयागराज के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक दीक्षित पर कड़ी कार्यवाही करते हुए उन्हें निलंबित करने के आदेश दिए हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपराध नियंत्रण एवं कानून शिथिलता के साथ ही भ्रष्टाचार जैसे गंभीर मामलों के गंभीर आरोप लगाते हुए प्रयागराज के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक दीक्षित पर कड़ी कार्यवाही करते हुए उन्हें निलंबित करने के आदेश दिए हैं। अभिषेक दीक्षित पर अपराध नियंत्रण, क़ानून व्यवस्था में शिथिलता और भ्रष्टाचार के गम्भीर आरोप की शिकायत मिली है। निलंबन की अवधि में अभिषेक दीक्षित को डीजीपी मुख्यालय से अटैच किया गया है।
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज पर आरोप है कि उनकी तैनाती की अवधि में गंभीर आरोप लगे हैं। गृह विभाग की ओर से जारी किए गए बयान के मुताबिक दीक्षित द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज के रूप में तैनाती की अवधि में अनियमितताएं किए जाने तथा शासन मुख्यालय के निर्देशों का अनुपालन सही ढंग से नहीं किए जाने का भी आरोप है।
भ्रष्टाचार को बढ़ावा और लापरवाही के लगे गंभीर आरोप
गृह विभाग के प्रवक्ता के अनुसार आईपीएस अभिषेक दीक्षित पर प्रयागराज में तैनाती की गंभीर आरोप लगे हैं। प्रवक्ता के अनुसार अभिषेक दीक्षित वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज की तैनाती के अवध में कई अनियमितताएं किए जाने का शासन और मुख्यालय के निर्देशों का पालन सही ढंग से नहीं किए जाने का आरोप पाया गया है।
दीक्षित पर पोस्टिंग में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिए जाने की भी शिकायतें प्राप्त हुई हैं। शासन एवं मुख्यालय के निर्देशों के अनुरूप नियमित रूप से फूड पेट्रोलिंग किए जाने एवं बैंकों तथा आर्थिक व्यवसायिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा बाइकर्स द्वारा की जा रही लूट की घटनाओं की रोकथाम में भी इनके द्वारा कठोर कार्रवाई नहीं की गई। बीते तीन माह में प्रयागराज में विवेचना के निस्तारण करवाने में शिथिलता पाई गई।
सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी को मिली प्रयागराज की कमान।
एसएसपी प्रयागराज बने सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी
लखनऊ में पुलिस उपायुक्त के पद पर तैनात रहे 2006 बैच के आईपीएस सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी को प्रयागराज का डीआईजी/एसएसपी बनाया गया है। इनके स्थान पर सीतापुर एटीसी में तैनात देवेश कुमार पांडेय को पुलिस उपायुक्त लखनऊ बनाया गया। इसके अलावा आईपीएस डॉ अखिलेश निगम को एसपी सतर्कता अधिष्ठान से एसपी विशेष अनुसंधान शाखा सहकारिता यूपी, गंगा नाथ त्रिपाठी को डीआईजी क्षेत्रीय अभिसूचना प्रयागराज से भ्रष्टाचार निवारण संगठन मुख्यालय में तैनात किया गया। डॉ मनोज कुमार को डीआईजी 11वीं पीएसी सीतापुर से पीएसी अनुभाग लखनऊ और एसपी पुष्पांजलि डीआईजी रेलवे लखनऊ में तैनात किया गया है।
इलाहाबाद हाईकोर्ट भी ने व्यक्त की थी अप्रसन्नता
प्रयागराज एसएसपी अभिषेक दीक्षित पर हाईकोर्ट द्वारा और प्रसन्नता व्यक्त की गई थी। कोरोना महामारी के संबंध में शासन के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराए जाने के लिए दिए गए निर्देशों का जनपद में सही ढंग से पालन नहीं कराया गया था। जिसको लेकर हाईकोर्ट ने नाराजगी व्यक्त की थी।

Check Also

अर्जुनपुर में हुई अंधी हत्या का हुआ 24 घंटे के भीतर खुलासा, दो आरोपी हुए गिरफ्तार*

🔊 Listen to this *अर्जुनपुर में हुई अंधी हत्या का हुआ 24 घंटे के भीतर …