Breaking News

मण्डलायुक्त ने कोविड-19 की समीक्षा करते हुए व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरूस्त रखने के दिए निर्देश*

*मण्डलायुक्त ने कोविड-19 की समीक्षा करते हुए व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरूस्त रखने के दिए निर्देश*
सर्विलांश टीम और कांटेक्ट टेªसिंग के कार्य की मानीटरिंग जमीनी स्तर पर करना सुनिश्चित करें
कोविड प्रोटोकाल का पालन न करने वाले प्राइवेट अस्पतालों के विरूद्ध की जायेगी कार्रवाई
मण्डलायुक्त श्री आर0 रमेश कुमार की अध्यक्षता एवं एडीजी जोन श्री प्रेम प्रकाश की उपस्थिति में गांधी सभागार में कोविड-19 की अद्यतन स्थिति की समीक्षा बैठक की। मण्डलायुक्त ने सर्विलांश टीम की संख्या बढ़ाकर पूरे क्षेत्र में टेस्टिंग कराने के निर्देश दिये। उन्होंने टेस्टिंग सेंटरों पर फार्म भरने तथा गुणवत्ता में सुधार करने के साथ ही उसकी डेटा की फीडिंग कराने को भी कहा है। स्वास्थ्य विभाग की टीम को निर्देशित करते हुए मण्डलायुक्त ने कहा कि अस्पताल में आये हुए मरीजों को तत्काल भर्ती कर उन्हें चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध करायी जाये। इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। मण्डलायुक्त ने कोविड-19 से हुई मौतों पर चिंता जताते हुए चिकित्सा विभाग को उसकी स्टेटजी तैयार करने के निर्देश दिए। साथ ही आईसीयू में भर्ती मरीजों की जांच कराकर उनका विवरण तैयार कराने के निर्देश दिये। मण्डलायुक्त ने सर्विलांश टीम की कार्यप्रणाली पर नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्हें अपने कर्तव्यों को सुचारू रूप से निर्वहन करने के निर्देश दिये। कांटेक्ट टैªसिंग और सर्विलांश टीम को जमीनी स्तर पर जाकर मानीटरिंग के कार्य को सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने कहा कि मानीटरिंग के कार्य में किसी भी प्रकार की कोताही कतई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। मण्डलायुक्त ने बेली के चिकित्साअधीक्षक श्रीमती सुषमा श्रीवास्तव को कड़ी फटकार लगाते हुए व्यवस्थाओं को सुधारने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आइशोलेशन में भर्ती मरीजों का उचित ढंग से इलाज किया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने मरीजों का एक्सरे और डायगलिसिस को अच्छी तरह से करने को कहा। मण्डलायुक्त ने अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीजों के रिकार्ड को सुरक्षित रखने के लिए उनसे भरवायें जाने वाले फार्म को डिजिटल रूप में सुरक्षित रखने के निर्देश दिये। साथ ही प्रत्येक मरीज की काउंसलिंग बेहतर ढंग से किया जाये। मण्डलायुक्त ने कैण्टोनमेंट जोन में माइक्रो प्लान तैयार कर टेस्टिंग की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मोहल्ले वाइज एक सुपरवाइजर नियुक्त करते हुए उसकी मानीटरिंग सुनिश्चित करने को कहा। मण्डलायुक्त ने कहा कि मोबाइल टीमों के क्षेत्र में जाने की सूचना पहले ही उस क्षेत्र के लोगो को दे दी जाये, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग मोबाइल टीम के द्वारा अपनी जांच करा सके। मण्डलायुक्त ने होम आइशोलेशन के बारे में जानकारी लेते हुए कहा कि होम आइशोलेशन में रह रहे लोगो की अच्छी तरह से मानीटरिंग की जाये। उन्हें किसी भी चीज की आवश्यकता हो तो तत्काल उन्हें सुविधा उपलब्ध करायी जाये। कैंटोनमेंट जोन में सैनेटाइजेशन के कार्य को बेहतर ढंग से किया जाये। उन्होंने डोर-टू-डोर सर्वे के कार्य में लगी टीमों को तेजी के साथ अपने कार्य को पूरा करने के लिए कहा। अस्पतालों में दवाओं और आॅक्सीजन की कोई कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को पूर्व में ही पर्याप्त मात्रा में दवाओं और आॅक्सीजन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों को एक सप्ताह के स्टाॅक की व्यवस्था रखने को कहा। मण्डलायुक्त ने कोविड प्रोटोकाल का पालन नहीं करने वाले प्राइवेट अस्पतालों के विरूद्ध कार्यवाही करने को कहा। बैठक में आई0जी0 जोन-श्री के0पी0 सिंह, जिलाधिकारी-श्री भानु चन्द्र गोस्वामी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक-श्री सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी-श्री आशीष कुमार, प्राचार्य मेडिकल कालेज-श्री एस0पी0 सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी-श्री जी0एस0 वाजपेयी सहित सभी प्रशासन एवं चिकित्सा विभाग के अधिकारीगण मौजूद रहे।

Check Also

अर्जुनपुर में हुई अंधी हत्या का हुआ 24 घंटे के भीतर खुलासा, दो आरोपी हुए गिरफ्तार*

🔊 Listen to this *अर्जुनपुर में हुई अंधी हत्या का हुआ 24 घंटे के भीतर …